Skip to main content

स्वयं पर नियंत्रण कैसे रख सकते है? swayam par niyantran kaise rakh sakte hai

खुद को नियंत्रित कैसे रख सकते है |   जीवन में हम हमेशा किसी कार्य को लेकर या कुछ ऐसा हमारे साथ गठित हो जाता है जिससे हम स्वयं को नियंत्रित नही कर पाते है | हम ऐसे परिस्थिति में कुछ गलत कदम उठा लेते है ऐसे में हमे क्या करना चाहिए | उसके लिए हम कुछ टिप्स आपसे शेयर करेंगे |                   हमे हमारी मनः स्थति को सय्यमित रखने के लिए  हमे सबसे पहले धैर्य रखना चाहिए | धैर्य आपकी उस स्थति के परिणाम को कुछ अच्छी जगह पर ही लेकर ही जायेगा | इसलिए जब भी कुछ ऐसी विपरीत परिस्थितियां बनती है उसमे हमे घबराना नहीं चाहिए | हड़बड़ाहट में हम हमेशा कुछ न कुछ गलती कर बैठते है | इसलिए कुछ भी ऐसा होने पर या तो क्रोध को स्वयं पर हावी न होने दे या दुःख की परिस्थिति बनती है तो स्वयं को ऐसा फील होने से रोके की में अंदर से टूट चूका हु या अब में कुछ नहीं कर सकता हूँ |        हमारे मन में उस कमी को जिसे हम पाना चाहते है या किसी चीज जिसे हमे पाने क लिए प्रयास किया था उसके खोने या कम होने पर मन में ये विचार लाना चाहिए की जो गया हे शायद वो हमारे लिए ठीक नहीं था मुझे जिंदगी उससे भी कुछ अच्छा देने जा रही है इसी लि

कर्म कैसे करते है? Karm kaise krte he?

 कर्म क्या होते है ?


जब हम किसी व्यक्ति का बुरा या अच्छा करते है यह हमारे कर्म होते है? महत्वपूर्ण यह होता है कि हमें किस प्रकार क कर्म करने चाहिए| जिससे हमें जीवन में किसी प्रकार से कोई समस्या पैदा ना हो| 

      हमारे जीवन का उद्देश्य निरंतर प्रगति करना होता है,परन्तु हमारी प्रगति या हमारे कार्य या कर्म से किसी के मन को ठेस पहुँचती है तो वह हमारे अच्छे कर्म नहीं है| हमारे जो कार्य किसी  ठेस पहुंचा रहा है तो इसका मतलब है हम कुछ गलत कार्य कर रहे है| गलत कार्य का नतीजा गलत ही होता है फिर हम प्रगति कैसे क्र सकते है| इसलिए हमें हमेशा अच्छे कार्य करते रहना चाहिए|  

कर्म की परिभाषा क्या है ?

मेरे अनुसार कर्म की परिभाषा तो यही होगी कि किसी का मन दुखी करके किया हुआ कर्म अभिशाप रहता है| ठीक जब हम किसी की दुआओ के साथ कार्य को पूर्ण करेंगे तो हमे कार्य या व्यवसाय या जो भी कर्म हम  कर रहे है उसमे सफलता तो मिलेगी ही सही साथ में दुआए भी मिलेगी जिसे हम विश्वास के साथ व्यवसाय भी कर सकेंगे | 

कर्म ही पूजा कैसे है ?

कर्म ही पूजा है से तात्पर्य यह होता है कि जब व्यक्ति कर्म करना प्रारम्भ करता है और उसे सफलता मिलती है तो उसकी पूजा होने लगती हे यानि  सम्मान सब बढ़  जाता है ,उसकी पूछ परख होने लगती है| यानि सबकुछ संभव  है सिर्फ और सिर्फ कर्म की वजह से इसलिए कहा जाता है की कर्म ही पूजा है | 

Comments

Popular posts from this blog

एक आदर्श व्यक्ति कैसे बनें? | How to become an ideal person?

एक आदर्श व्यक्ति कैसे बनें?|How to become an ideal person? अपना व्यक्तित्व ही व्यक्ति की पहचान होती है। व्यक्ति जितना अधिक अपने आचरणों में परिवर्तन लायेगा,वैसा ही उसका आचरण होता जायेगा,जिस प्रकार से उसका आचरण रहेगा,उसका कद भी वैसा ही बढ़ता व घटता रहेगा।एक आदर्श व्यक्ति में कई प्रकार के गुण विद्यमान रहते हैं।एक आदर्श व्यक्ति बनने के लिए हमें अपने आप को तैयार कर बहुत सी खुशियों को त्याग कर अनुशासन के साथ जीवन जीना होता है ।अनुशासनात्मक व इमानदार व्यक्तित्व ही आपको एक आदर्श व्यक्ति बना सकते हैं।  आदर्श व्यक्ति में क्या क्या गुण होने चाहिए? आदर्श व्यक्ति में बहुत सारे गुणों का समावेश होता है।कुछ की जानकारी इस प्रकार है। 1.एक आदर्श व्यक्ति हमेंशा सत्य बोलते हैं,मिथ्या शब्द से कोसो दूर रहते हैं। 2.हमेशा ईमादार रहकर ईमानदारी से कार्य करते हैं। 3.एक आदर्श व्यक्ति समय के पाबंद रहते हैं,जिस समय पहूंचना है उसी समय पर पहूंचते हैं। 4.वचन के पक्के होते है।अपनी बात पर अटल रहते है। 5. हमेंशा दूसरों का सुख देखना पसंद करते हैं,स्वयं के कारण किसी को दु:खी नहीं करते हैं। 6.सभी को साथ लेकर चलते हैं,ऊंच

मेरे गांव कराड़िया तह.रामपुरा जिला नीमच में सुखला भरने की मशीन बनाई गयी।

 प्रतिभा किसी की मोहताज नहीं होती है।  written by-Dashrath rawat जी हा ये कर दिखाया है हमारे गांव के किसान के पुत्र दिलीप पिता देवकरण जी रावत मीणा ने जो किसी प्रकार की इंजीनियरिंग की पढ़ाई या विशेष कोईपढ़ाई नहीं कर रखी है उसके बावजूद अपनी प्रतिभा के दम वेल्डिंग मशीन के माध्यम से जो गेहूँ का सुखला ट्रेक्टर या ट्राले में भरने के लिए पाईप के माध्यम से ज्यादा मजदूरों के पैसा बचानेके लिए व कम समय में कार्य समाप्त करने के उद्देश्य से सुखला भरने की मशीन का निर्माण किया है।जो गांव के व्यक्ति ने ही कर दिखाया है। आपने कही जाकर किसी प्रकार की ट्रेनिंग या कुछ नहीं लेकर बहुत सारे कृषि के उपकरण भी बनाये हैं।आप चार पाई खटिया से लगाकर बहुत सारे कार्य अपनी बुद्धि से करते आ रहे हैं। ऐसे प्रतिभा शाली किसान पुत्रों को शासन से सहयोग मिलना चाहिए,ताकि ये गांव के साथ क्षेत्र का व देश का नाम रोशन कर सके।

वाहन किसे कहते हैं ?Vahan kise kahte h

 vehicle|वाहन किसे कहा जाता है। जो किसी वस्तु या शरीर को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने में सहयोग प्रदान करते हैं,वाहन कहलाते है।वाहन का उपयोग सामान्यत: व्यक्ति किसी जगह जाने के लिए या फिर किसी वस्तु को कही पर जो व्यक्ति की क्षमता से कही गुना ज्यादा वजन को कही पर भी कुछ ही समय में पहूंचाता है।वाहन बहुत ही उपयोगी साधन है।यह सामान्यत: पेट्रोल,डिजल या गैस से चलने वाले साधन होते हैं।   सभी वाहन अलग अलग प्रकार के होते हैं,किसी वाहन तीन पहिया तो कोई वाहन दुपहिया या चार पहिये वाले वाहन भी रहते हैं।कुछ वाहन आकाश में उड़ने वाले है तो कुछ पानी में तैरने वाले भी रहते है। VEHICLE(वाहन के प्रकार) वाहन (vehicle) कई प्रकार के होते हैं, 1. कुछ वाहन(vehicle) जो एक स्थान से दूसरे स्थान पर सवारी को ले जाते हैं जैसे -बस ,मोटरसाईकिल,जहाज,साईकिल,कार, जीप आदि। 2. कुछ वाहन(Vehicle)वजनी माल को एक स्थान से दूसरे स्थान पर ले जाने का कार्य करते है। जैसे ट्रेक्टर,ट्रक,लोडिंग वाहन इनके अन्तर्गत आते है। VEHICLE|वाहन को चलाते समय क्या सावधानी रखनी चाहिए। किसी भी वाहन को चलाते समय हमें बहुत सारी बातें है जिन्हें ध