Skip to main content

Posts

Showing posts from July, 2022

स्वयं पर नियंत्रण कैसे रख सकते है? swayam par niyantran kaise rakh sakte hai

खुद को नियंत्रित कैसे रख सकते है |   जीवन में हम हमेशा किसी कार्य को लेकर या कुछ ऐसा हमारे साथ गठित हो जाता है जिससे हम स्वयं को नियंत्रित नही कर पाते है | हम ऐसे परिस्थिति में कुछ गलत कदम उठा लेते है ऐसे में हमे क्या करना चाहिए | उसके लिए हम कुछ टिप्स आपसे शेयर करेंगे |                   हमे हमारी मनः स्थति को सय्यमित रखने के लिए  हमे सबसे पहले धैर्य रखना चाहिए | धैर्य आपकी उस स्थति के परिणाम को कुछ अच्छी जगह पर ही लेकर ही जायेगा | इसलिए जब भी कुछ ऐसी विपरीत परिस्थितियां बनती है उसमे हमे घबराना नहीं चाहिए | हड़बड़ाहट में हम हमेशा कुछ न कुछ गलती कर बैठते है | इसलिए कुछ भी ऐसा होने पर या तो क्रोध को स्वयं पर हावी न होने दे या दुःख की परिस्थिति बनती है तो स्वयं को ऐसा फील होने से रोके की में अंदर से टूट चूका हु या अब में कुछ नहीं कर सकता हूँ |        हमारे मन में उस कमी को जिसे हम पाना चाहते है या किसी चीज जिसे हमे पाने क लिए प्रयास किया था उसके खोने या कम होने पर मन में ये विचार लाना चाहिए की जो गया हे शायद वो हमारे लिए ठीक नहीं था मुझे जिंदगी उससे भी कुछ अच्छा देने जा रही है इसी लि
 हार से निराश नहीं होना है, जिंदगी की सिख है हार  जिंदगी में हर जित चलती रहती है ,हमरे जीवन को हमे बेहतर बनाना है या हमे जीवन में आगे बढ़ने है तो निराश मत होइए,आपकी हार वो थी,जिससे भविष्य में होने वाली सफलताओ के बिच में कोई समस्या  नहीं आये,वो कमिया हमे हर से सिखने को मिलती है|                                   हार हमे कमजोर नहीं हमारी कमी समझती है तू यहाँ गलत था अब ऐसा कर जो गलती पहले करि है वो फिर  दोहराना नहीं  दोबारा वही देखना पढ़ेगा जो  चुके हो| इसलिए हार हमेशा सिखाती है उसे निराशा के साथ न लेकर हम ये सीखे की हमे कुछ नया सिखने को मिला है जिससे हम कुछ नया सिख सकते है|   हार क्या होती है ? जब हम किसी कार्य को पूरी ईमानदारी से नहीं करते है,और उसमे सफलता नहीं मिलती है तो हम उसे हार समझ लेते है| हमारे सोचने का तरीका कुछ अलग है हम हार को अपनी कमी समझ उस कमी को कैसे  करके फिर से  प्रयास करके उसे कैसे सफल बनाया जा सकता है| हमारी गलती को हम सिख बना कर कार्य करते है,उससे बेहतर परिणाम आने में जुट जाते है|              जब निराशा होती है हम उसे हर अपनी हार समझ लेते है,हताशा जीवन के विकास क

तैरने के फायदे क्या क्या है? swimming krne ke fayde kya he?

 तैरने के फायदे क्या क्या होते हैं? तैरने से व्यक्ति का शरीर स्वस्थ रहता है।  तैरने से शरीर के अन्दर योग की बहुत सारी क्रियाएं हो जाती है,जिससे हमें शारीरिक लाभ प्राप्त होता है। फेफड़े संबंधित फायदा भी तैरने से होता है। तैरने से सांस भूलने जैसा होता है जिससे फेफड़े अच्छे से कार्य करते हैं। तैरने से हमारे शरीर के लगभग प्रत्येक अंग का व्यायाम हो जाता है। शरीर के लिए बेहतर है कि हमें कभी कभी तैरना चाहिए।जिससे शरीर के प्रत्येक अंग का व्यायाम आसानी से हो सके। तैरने से हाथ ,पैर ,पंजा ,हथैली ,उंगलिया ,फेफड़े ,घूटने ,कमर,कोहनी ,आंखे आदि का व्यायाम हो जाता है। तैरने से सांस संबंधित समस्याएं भी कम होती है। तैरने के लिए हम कुआ,तालाब,नदि या स्विमिंग पुल का उपयोग कर सकते हैं। कही पर भी तैरने सिखने के लिए हमें हमेंशा ट्रेनर को साथ रखना चाहिए,ताकि हमें किसी प्रकार की घटना का सामना ना करना पढ़े।