Skip to main content

Posts

Showing posts from October, 2022

स्वयं पर नियंत्रण कैसे रख सकते है? swayam par niyantran kaise rakh sakte hai

खुद को नियंत्रित कैसे रख सकते है |   जीवन में हम हमेशा किसी कार्य को लेकर या कुछ ऐसा हमारे साथ गठित हो जाता है जिससे हम स्वयं को नियंत्रित नही कर पाते है | हम ऐसे परिस्थिति में कुछ गलत कदम उठा लेते है ऐसे में हमे क्या करना चाहिए | उसके लिए हम कुछ टिप्स आपसे शेयर करेंगे |                   हमे हमारी मनः स्थति को सय्यमित रखने के लिए  हमे सबसे पहले धैर्य रखना चाहिए | धैर्य आपकी उस स्थति के परिणाम को कुछ अच्छी जगह पर ही लेकर ही जायेगा | इसलिए जब भी कुछ ऐसी विपरीत परिस्थितियां बनती है उसमे हमे घबराना नहीं चाहिए | हड़बड़ाहट में हम हमेशा कुछ न कुछ गलती कर बैठते है | इसलिए कुछ भी ऐसा होने पर या तो क्रोध को स्वयं पर हावी न होने दे या दुःख की परिस्थिति बनती है तो स्वयं को ऐसा फील होने से रोके की में अंदर से टूट चूका हु या अब में कुछ नहीं कर सकता हूँ |        हमारे मन में उस कमी को जिसे हम पाना चाहते है या किसी चीज जिसे हमे पाने क लिए प्रयास किया था उसके खोने या कम होने पर मन में ये विचार लाना चाहिए की जो गया हे शायद वो हमारे लिए ठीक नहीं था मुझे जिंदगी उससे भी कुछ अच्छा देने जा रही है इसी लि

कोशिश करने के क्या क्या फायदे होते है ? || koshish Krne k kya kya fayde he

 कोशिश करने से क्या होगा ?   हमेशा ही देखने को मिलता है कि हर व्यक्ति कुछ न कुछ सोचता जरूर है की में यह काम करूंगा या में ऐसा करने की सोच रहा हु ,परन्तु जब वह   वह  सोचता ही रह जाता है तो वह कार्य को क्र नहीं सकता है ,जब वह कार्य को शुरू करने के लिए कोशिश करने लग जायेगा तब वह आसानी सफल हो जायेगा,जब व्यक्ति के मन में सोचने से ज्यादा कार्य करने में ध्यान  लगाएगा तो वह आसानी से प्रगति क्र सकता है|  कोशिश करने वालों की हार क्यों नहीं होती है ? जिस प्रकार कुए के पनघट पर पानी भरने के लिए रस्सी का उपयोग होता है ,उस रस्सी के द्वारा जब बाल्टी से पानी खींचते है और जिस जगह वह रस्सी तिकी रहती है वह रस्स्सी बार बार आती जाती रहती है तो उससे वह शिला पर निशान छोड़ देती है | या शिला को काट देती है ठीक उसी प्रकार बार बार कोशिश करने पर  हमे सफलता जरूर मिलती है | इस लिए कहा जाता है की कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती है| 

कर्म कैसे करते है? Karm kaise krte he?

 कर्म क्या होते है ? जब हम किसी व्यक्ति का बुरा या अच्छा करते है यह हमारे कर्म होते है? महत्वपूर्ण यह होता है कि हमें किस प्रकार क कर्म करने चाहिए| जिससे हमें जीवन में किसी प्रकार से कोई समस्या पैदा ना हो|        हमारे जीवन का उद्देश्य निरंतर प्रगति करना होता है,परन्तु हमारी प्रगति या हमारे कार्य या कर्म से किसी के मन को ठेस पहुँचती है तो वह हमारे अच्छे कर्म नहीं है| हमारे जो कार्य किसी  ठेस पहुंचा रहा है तो इसका मतलब है हम कुछ गलत कार्य कर रहे है| गलत कार्य का नतीजा गलत ही होता है फिर हम प्रगति कैसे क्र सकते है| इसलिए हमें हमेशा अच्छे कार्य करते रहना चाहिए|   कर्म की परिभाषा क्या है ? मेरे अनुसार कर्म की परिभाषा तो यही होगी कि किसी का मन दुखी करके किया हुआ कर्म अभिशाप रहता है| ठीक जब हम किसी की दुआओ के साथ कार्य को पूर्ण करेंगे तो हमे कार्य या व्यवसाय या जो भी कर्म हम  कर रहे है उसमे सफलता तो मिलेगी ही सही साथ में दुआए भी मिलेगी जिसे हम विश्वास के साथ व्यवसाय भी कर सकेंगे |  कर्म ही पूजा कैसे है ? कर्म ही पूजा है से तात्पर्य यह होता है कि जब व्यक्ति कर्म करना प्रारम्भ करता है

सिखना जीवन का लक्ष्य बनाईये ? || Sikhna Jiwan ka Lakshy Banaiye?

 जीवन में सिखने का लक्ष्य कैसे बनाये? जीवन में व्यक्ति स्वयं कभी परिपूर्ण नहीं होता है ।उसे ऐसा कभी मानना या सोचना भी नहीं चाहिए कि मैं परिपूर्ण हूँ। सतत् जीवन में सिखने की प्रवृति बनाये रखना चाहिए, स्वयं में ये अभियान नहीं रखना चाहिए कि मैं अन्य से क्यों सिखूं, जब हमें छोटे बच्चे से भी अगर कुछ सिखना मिलता है तो सिख ले लेना चाहिए क्योंकि जीवन में हमेंशा सिखने की प्रवृति बनाने से हमें बढ़े लक्ष्य की प्राप्ति होती है।जीवन अगर सिखने का लक्ष्य बनाते हैं तो हम बढ़ी सफलताओं को पार कर  जीवन में प्रगति मार्ग पर  बढ़ते है। जीवन में सिखना एक कला है। हम देखते हैं कि व्यापारी लोग या व्यापार से जूड़े लोग देश विदेश की यात्राएं अधिक करते हैं। उनका एक ही लक्ष्य रहता है, भ्रमण के दौरान सिखने वाले नये नये अनुभवों का लाभ उन्हें मिलता रहे । नये नये अनुभव से नित नया सिखने को मिलता है। जिन लोगो में सिखने की आदत होती है वे जिज्ञासा प्रवृति के लोग होते हैं, जिनमें इस प्रकार की कला रहती है।जिससे वे नया सिखते रहते हैं, इसलिए कहा गया है कि जीवन में सिखना एक  कला है ।  सिखना कहा से सिख सकते हैं । हमेें सिखना या ज

Best Bussiness Ideas || Kon sa Business Achha h

 Best Business Idea kon se hote h? हमेंशा व्यक्ति Business शुरु तो आसानी से कर सकता है, परन्तु उसे लम्बे समय तक चलाना और उसमें सफल होना ये हर व्यक्ति नहीं कर सकता है।उसके  कुछ कारण है जिनके कारण वह व्यक्ति उस व्यवसाय(Business) में असफल हो जाते हैं।         वो कारण कुछ इस प्रकार भी सकते हैं जैसे व्यवसाय की पूंजी को व्यवसाय में ना लगाकर अन्य खर्चे में Invest कर देते हैं। सही ग्राहकों को नहीं ढूंढ पाना या सही से मार्केट की क्या मांग है उसे नहीं पहचान पाना जैसे कई प्रकार के कारण हो सकते हैं । अब बात यह आती है कि अच्छा Business कौन सा होता है। तो यहां मैं आपको ये बताने जा रहा हूं कि Business सभी अच्छे होते हैं, फर्क इतना रहता है कोई ज्यादा फायदा देता है कोई कम देता है। मेरी दृष्टिकोण में व्यवसाय हमेंशा फायदा देने वाला ही होता है, व्यवसाय को प्रारंभ से लेकर लम्बे समय तक रखने के लिए कुछ महत्वपूर्ण बिन्दू है जिन्हें ध्यान रखने की आवश्यकता है :- हमेंशा कर्ज अत्यधिक या हमारी क्षमताओं से अधिक करने से बचना चाहिए। ग्राहकों की मांग के अनुरुप आपके पास आपके व्यवसाय से जूड़ी चिजें पर्याप्त होना चाह

हमसफर कैसा होना चाहिए || Hamsafar kaisa Hona Chahiye

 मेरा हमसफर कैसा हो||  Mera Hamsafar Kaisa Hona Chahiye    जीवन की हर खुशी का एहसास होता है,ऐसा ही मेरा हमसफर होता है।जीवन में दु:ख जब भी आये हमारी हिम्मत वो हो ऐसा हमेंशा एहसास हो। जो  ना कहे शब्दों को मेरी भावनाओं से समझ ले ऐसा मेरा यार हो,मेरे हमसफर की ऐसी वो कहानी हो, जो दिखावटी दुनिया से बाहर सच्चाई को पहचाने,जिनके चलने व आने से मैं उसकी आहट पहचान लू, जिसके  महकने से पूरी दुनिया महके, और सबसे महत्वपूर्ण बात वो मेरे भविष्य की मेरे करियर की चिंता कर मेरे व्यवसाय या कार्य की हिम्मत बने, मुझे बस ऐसा हमसफर चाहिए ।    अच्छा हमसफर कैसे मिलता है?  एक अच्छा हमसफर उसके चेहरा देख पहचानना शायद गलत हो सकता है, तो फिर हम पहचानेंगे कैसे कि यह  हमारे लिए सही पसंद है। उसके लिए हमें उसके विचारों को जानना अत्यन्त आवश्यक है, क्योंकि आपने उसके विचार ना जाने तो वह किस प्रकार की प्रकृति का व्यक्ति आपका हमसफर बन रहा है यह जानना बहुत जरुरी है।वह आपके सुख दुख का सहभागी बन सकता है या नहीं या वह आपको समझ सकता है या नहीं यह सब बातें जानना अत्यन्त आवश्यक है । कुछ प्रवृतियां ऐसे होती है जो आपको प्रभावित करन